Page - 4

Total Status: 875View Profile

Dastoor nibhaya humne

हर दस्तूर इस ज़माने का, निभाया हमने,
मगर न पा सके वो यारो, जो चाहा हमने !

न आये कभी काम जिन्हें समझा अपना,
पर उनके हर इशारे पे, सर झुकाया हमने !

बहुत रंग देखे हैं हमने ज़िन्दगी के दोस्तो,
पर उसका न कोई रंग, समझ पाया हमने !

न समझती है ये दुनिया अब दर्द के आंसू,
न कोई मेहरवां दुनिया में, ढूढ़ पाया हमने !

"मिश्र" ज़िन्दगी लगा दी अपनों के फेर में,
पर करें यक़ीं किस पर, न जान पाया हमने !

Dushman bhi yaar ho gaye

वक़्त संभला, तो दुश्मन भी यार हो गए,
पर ख़ास अपनों के चेहरे, बेज़ार हो गए !
वो दोस्त हुआ करते थे कभी फाकों में,
मगर पेट भरते ही, दौलत के यार हो गए !
न भाता उन्हें तो अब यारों का चेहरा भी,
कभी फूल हुआ करते थे, अब खार हो गए !
अब खो गए वो भी इस मतलबी दुनिया में,
बदवक़्त के साथी भी, अब बदकार हो गए !
कैसे बिकता है ईमान इधर देखा है हमने,
अब तो लोग खुद ही, खुला बाज़ार हो गए !
बन के बरगद जिन्हें छांव दी हमने,
उनकी ही कुल्हाड़ी के, हम शिकार हो गए !

Kab tak rahega

दौर ए गर्दिश का असर, कब तक रहेगा
यूं ही उलझनों का सफर, कब तक रहेगा
कभी तो टूटेगा आदमी का हौसला यारो,
न जाने आफतों का कहर, कब तक रहेगा,
ज़िंदगी लगा दी हमने ज़िंदगी की खोज में,
आखिर मरने जीने का डर, कब तक रहेगा
जिसने मुद्दतें गुज़ार दीं हवाओं से झगड़ते,
आखिए वो बूढा सा शज़र, कब तक रहेगा
भटकता है दिल रौशनी की चाह में हरदम,
आखिर इन अंधेरों का डर, कब तक रहेगा
भुला दी है सब ने "मिश्र" मोहब्बत की भाषा,
आखिर ये नफरतों का ज़हर, कब तक रहेगा

Nakhre bemisaal dekhe hain

अपनी ज़िन्दगी ने, कितने ही बवाल देखे हैं !
जो थे कभी अपने, उनके भी कमाल देखे हैं !
वक़्त बिगड़ते ही फेर लीं जिसने नज़र यारो,
इन आँखों ने कभी, उसके भी हवाल देखे हैं !
न रही इन आँखों में तलब दीदार की अब,
पर क़रीब से कभी, हमने भी जमाल देखे हैं !
न हुए कभी पूरे जो देखे थे ख्वाब हमने भी,
हमने हसीनों के, नखरे भी बेमिशाल देखे हैं !
दिल में उभरते हैं कभी उल्फत के उजाले,
मगर नफ़रत, के अँधेरे भी बेमिशाल देखे हैं !
न पड़ो "मिश्र" इस मोहब्बत के पचड़े में तुम,
हमने दिवानों के, चेहरे भी बदहवाल देखे हैं !!!

Foolon Ki Chahat Mein

फूलों की चाहत में हम, ख़ारों से प्यार कर बैठे,
देखे तितलियों के रंग, तो भोरों पे वार कर बैठे !
ख़्वाब-ए-क़ुर्बत में भुला दिया हमने खुद को भी ,
हम ज़िंदगी का हर पल, गुलों पे निसार कर बैठे !
कभी गुलशन में रंग भरने की तमन्ना थी हमारी,
पर क्यों कर न जाने हम, बहारों से रार कर बैठे !
घुसे थे गुलशन में हम तो गुलों के दीदार के लिए,
फंसा के दामन खुद ही, काँटों से तकरार कर बैठे !
गर अपने बस में होता तो रोक देते ख़िज़ाँ को भी,
मगर हम कुदरत के मामलों से, इकरार कर बैठे !