Hum Aashiqui Samajh Baithe

वो मुस्कराये क्या, कि हम आशिक़ी समझ बैठे,
हम तो मौत के सामान को, ज़िन्दगी समझ बैठे

ये ख़ुदा का कुफ्र था, या फिर नादानियाँ हमारी,
कि धुप अंधेरों को यारो, हम चांदनी समझ बैठे

न समझ पाए हम, उसके अंदर भड़कते शोर को,
उसके राग खुन्नस को, हम रागिनी समझ बैठे

इसे हम वक़्त की मार कहें, या फिर बदनसीबी,
कि पत्थर की मूरत को, हम महजबीं समझ बैठे

वाह क्या ही अक्ल पायी है, परखने की हमने भी,
कि हलाहल की बूंदों को, हम चाशनी समझ बैठे

बड़ा ही शातिर बहुरूपिया, निकला वो तो "मिश्र",
कि उस कपटी मुखौटे को, हम सादगी समझ बैठे

Badi Ajeeb Hai Zindagi

यूं ही कभी तालियां, तो कभी गालियां मिलती रहेंगी
कहीं पर ग़म, तो कहीं पर शहनाइयां मिलती रहेंगी

बड़ी ही अजीब शय है, ये #ज़िन्दगी की राहें भी यारो,
यहाँ तो कभी दौड़, तो कभी बैसाखियाँ मिलती रहेंगी

आये हो इस दुनिया में, तो बस इतना समझ लो दोस्त,
यहाँ तो कभी भीड़, तो कभी तन्हाईयाँ मिलती रहेंगी

इस #मोहब्बत के नाम पर, कभी बेसब्र मत होना यारा,
यहाँ तो कभी दोस्ती, कभी दुशबारियाँ मिलती रहेंगी

यूं न खेलिए इधर खेल, सिर्फ जीत और जीत के वास्ते,
यहाँ तो कभी जीत, तो कभी नाकामियां मिलती रहेंगी

यारा न करना कभी यक़ीं, किसी को अपना समझ कर,
यहाँ तो कभी शराफत, कभी मक्कारियां मिलती रहेंगी

इस वक़्त की टेढ़ी चालों से, ज़रा संभल के रहना "मिश्र",
यहाँ तो कभी फांके, तो कभी खुशहालियाँ मिलती रहेंगी !!!

Ab Koi Ehsas Nahi Hota

अब किसी की घात का, अहसास नहीं होता !
ज़ख्मों में उठी टीस का, अहसास नहीं होता !

गालियां भी दे कोई तो शिकवा नहीं हमको,
अब तो किसी अंदाज़ का, अहसास नहीं होता !

कुछ इस कदर बदला है ज़िन्दगी का मिज़ाज़,
कि अब ग़म या ख़ुशी का, अहसास नहीं होता !

परेशान हूँ मैं इतना अपने बीमार दिल से यारो,
अब तो किसी भी चाह का, अहसास नहीं होता !

बरसे हैं दिल पर जुबां के पत्थर कुछ इस तरह,
अब तो किसी भी चोट का, अहसास नहीं होता !

ये मोहब्बतें ये हसरतें सब मन का खेल हैं "मिश्र",
अब किसी की फितरत का, अहसास नहीं होता !!!


 

Kaun Hisab Rakhe

कौन हिसाब रखे किसको कितना दिया
और कौन कितना बचायेगा!
इसलिए ईश्वर ने आसान गणित लगाया
सबको खाली हाथ भेज दिया!
खाली हाथ ही बुलायेगा !!!

Naam badnam ho gaya

अपना तो नाम मुफ़्त में,बदनाम हो गया !
बे-सबब ही हसीनों का, अहसान हो गया !

उनकी ज़फाओं से दिल टूट तो टूटा यारो,
मगर मोहब्बत का चस्का, तमाम हो गया !

मंज़िल की तलाश में निकला था मैं नादाँ,
मगर यारों का तज़ुर्बा भी, नाकाम हो गया!

अँधेरी सुरंगों में कुछ इस कदर भटका मैं,
कि अपनों का साया भी, अनजान हो गया !

अपने दर्दों को कब तक मैं छिपाऊँ "मिश्र",
मेरे ज़ख्मों का चर्चा तो अब, आम हो गया !!!