Page - 4

Meri Zindagi Ki Kitab Se

Na Gila Hai Koi Halaat Se,
Na Shikayatien Kisi Ki Zaat Se...

Khud He Sare Lafz #Judaa Ho Rahe
Hain Meri #Zindagi Ki Kitab Se !!!

Kaun Apna Kaun Praya

चाहत की इस दुनिया में, केवल व्यापार मिले मुझको
चाहा जिसे फूलों की तरह, उससे ही खार मिले मुझको

कैसे जीया हूँ कैसे मरा हूँ, किसी को कोई गरज नहीं,
दिल में घुस के घात करें, कुछ ऐसे यार मिले मुझको

अपना पराया करते करते, ये जीवन ही सारा गुज़र गया,
ना रही खनक अब रिश्तों में, झूठे इक़रार मिले मुझको

जिसके साथ हँसे खेले, जीवन भर जिसको प्यार किया,
उसने ही कपट की चाल चली, ऐसे किरदार मिले मुझको

यहाँ कौन है अपना कौन पराया, कैसे समझूँ इनको मैं,
ना मिली शराफत ढूंढें से, केवल मक्कार मिले मुझको !!!

Khushiyon ki barsaat hogi

कभी बात भी होगी, कभी बे बात भी होगी,
ज़िन्दगी लम्बी है यारो, मुलाक़ात भी होगी !

ये ग़मों के सिलसिले न रहेंगे हमेशा दोस्त,
कभी न कभी, खुशियों की बरसात भी होगी !

ज़िन्दगी की राहों में ज़रा सा संभल कर चलिए,
स्वागत में उधर, काँटों की बारात भी होगी !

ये खेल है ज़िन्दगी का ज़रा हिम्मत से खेलिए,
कभी जीते हो ठाठ से, तो कभी मात भी होगी !

आँखें खोल कर रखना ज़रा अपनों से,
सामने से मोहब्बत, पर पीछे से घात भी होगी !

Rishton Ko Batayein Kaise

गुलशन में लगी आगों को, हम बुझाएं कैसे,
इन #मोहब्बत के परिंदों को, हम बचाएं कैसे !

आँगन में लगे होते तो उखाड़ देते हम यारो,
मगर #दिल में उगे ख़ारों को, हम हटाएँ कैसे !

होता अँधेरा अगर घर में तो जला देते शमा,
पर दिल में भरे अंधेरों को, हम मिटायें कैसे !

न समझा कभी जिसने #नफ़रत के सिवा कुछ,
उनके दिल में मोहब्बतों को, हम बसाएं कैसे !

अब न मिलती इंसानियत ढूढ़ने से कहीं भी,
अब लोगों के सोये ज़ज़्बों को, हम जगाएं कैसे !

अपनी बुलंदियों के गुरूर में ग़ाफ़िल हैं "मिश्र",
फिर जमीं से उनके रिश्तों को, हम बताएं कैसे !

Khaab Mein Bulaya

अपनी सांसों में महकता पाया है तुझे,
हर ख्वाब मे बुलाया है तुझे...
क्यू न करे याद तुझको,
जब खुदा ने हमारे लिए बनाया है तुझे !!!